नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर का महत्व, कहानी व इतिहास -Nageshwar jyotirlinga Temple history, story Importance in hindi

07/03/2024

Nageshwar jyotirlinga Temple – भारत के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक नागेश्वर ज्योतिर्लिंग का अत्यधिक धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व है। 12 ज्योतिर्लिंगों में से 10वां स्थान ज्योतिर्लिंग नागेश्वर ज्योतिर्लिंग है। नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर गुजरात राज्य में स्थित है, यह प्राचीन मंदिर है,यहाँ हर साल हजारों भक्तों और पर्यटकों आते है। नागेश्वर ज्योतिर्लिंग अपने समृद्ध इतिहास, सुंदर वास्तुकला और आध्यात्मिक आभा के साथ दिव्य अनुभव चाहने वालो के लिए योग्य स्थान है।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर का महत्व, कहानी व इतिहास -Nageshwar jyotirlinga Temple history, story Importance in hindi

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों के नाम

1 .सोमनाथ ज्योतिर्लिंग– गिर सोमनाथ इन गुजरात

2. नागेश्वर ज्योतिर्लिंग – गुजरात में दारुकावनम

3.  भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग – पुणे इन महाराष्ट्र 

4. त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग – महाराष्ट्र ,नासिक

5. बाबा वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग – झारखण्ड में देवघर   

6. महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग – मध्य प्रदेश में उज्जैन

7. काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग – उत्तर प्रदेश में वाराणसी

8. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग– केदरनाथ इन उत्तराखण्ड

9. घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग– औरंगाबाद इन महाराष्ट्र

10.ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग – मध्य प्रदेश में खंडाव 

11 रामेश्‍वरम ज्‍योतिर्लिंग – तमिलनाडु में रामेश्‍वरम द्वीप

12 मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग – आंध्र प्रदेश में श्रीशैलम

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर का इतिहास – Nageshwar jyotirlinga Temple history

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास प्राचीन काल से है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव अपने भक्तों को बुरी ताकतों से बचाने के लिए यहां सांपों के भगवान नागेश्वर के रूप में प्रकट हुए थे। मंदिर की जड़ें दारुका नामक राक्षस की पौराणिक कहानी से जुड़ी हैं, जिसे इसी स्थान पर भगवान शिव ने हराया था।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर की कहानी – Nageshwar jyotirlinga Temple story

पौराणिक कथा के अनुसार, एक बार दारुका नाम का एक राक्षस था जो दारुका वन नामक जंगल में रहता था। दारुका एक बहुत शक्तिशाली राक्षस था और उसने क्षेत्र के लोगों को आतंकित किया था। एक दिन, सुप्रिय नाम का एक शिव भक्त जंगल से गुजर रहा था जब उसे दारुका ने पकड़ लिया। दारुका ने सुप्रिय को एक गुफा में कैद कर लिया और उसे जान से मारने की धमकी दी।

सुप्रिया ने शिव से सहायता की प्रार्थना की। शिव ने सुप्रिय की प्रार्थना सुनी और एक विशाल सर्प के रूप में उसे दर्शन दिए। शिव ने दारुका को डरा दिया और सुप्रिया को बचा लिया। तब शिव ने सुप्रिय से कहा कि वह दारुका वन में एक ज्योतिर्लिंग के रूप में अपनी उपस्थिति स्थापित करेंगे। यह ज्योतिर्लिंग नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के नाम से जाना जाएगा। नागेश्वर ज्योतिर्लिंग द्वारका की कथा शिव की सुरक्षा की शक्ति की याद दिलाती है। यह शिव की भक्ति के महत्व की भी याद दिलाता है।

Nageshwar jyotirlinga Temple Importance नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर का महत्त्व

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर भगवान शिव की दिव्य शक्ति का स्थान माना जाता है। नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर दर्शकों और उपासकों को सर्प के जहर से बचाने की क्षमता रखता है। जो व्यक्ति स्वच्छ मन से नागेश्वर का ध्यान करते हैं, वे सभी भौतिक और आध्यात्मिक विषाक्त पदार्थों (माया, पाप, क्रोध और प्रलोभन) से मुक्त हो जाते हैं। नागेश्वर शब्द नागों का राजा को संदर्भित करता है जो हर समय भगवान शिव के गले में लिपटा रहता है। जो व्यक्ति इस मंदिर में प्रार्थना करता है, उसे सांपों से कोई नुकसान नहीं होगा, और यह गहरी मान्यता मंदिर को अद्वितीय महत्व प्रदान करती है, जो हजारों अनुयायियों को आकर्षित करती है।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास घूमने की जगहें – Places to visit near Nageshwar Jyotirlinga Temple

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास घूमने की जगहें - Places to visit near Nageshwar Jyotirlinga Temple
नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास घूमने की जगहें – Places to visit near Nageshwar Jyotirlinga Temple

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास घूमने के लिए कई आकर्षक प्राचीन जगहें हैं। जो बहुत ही खुबसूरत है, इसमें से हम कुछ आकर्षण जगह का उल्लेखनीय कर रहे हैं, जिन्हें आप नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर की यात्रा के दौरान देख सकते हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास द्वारकाधीश मंदिर:

द्वारकाधीश मंदिर द्वारका शहर में स्थित है,जो नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास प्रमुख आकर्षणों में से एक है। यह मंदिर भगवान कृष्ण को समर्पित यह प्राचीन मंदिर है, जो इस यात्रा में अत्यधिक धार्मिक महत्व रखता है। द्वारकाधीश मंदिर की जटिल वास्तुकला, सुंदर नक्काशीदार खंभे और दिव्य वातावरण आने वाले भक्तो के लिए देखने योग्य स्थान हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास रुक्मिणी देवी मंदिर:

रुक्मिणी देवी मंदिर भगवान कृष्ण की पत्नी रुक्मिणी को समर्पित है। यह मंदिर आश्चर्यजनक वास्तुकला का नमूना है और अपनी जटिल नक्काशी और सुंदर चित्रों के लिए काफी विख्यात है। यह भगवान कृष्ण के अनुयायियों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल माना जाता है। जो द्वारका के के पास स्थित हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास नागेश्वर तट:

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के पास स्थित, नागेश्वर बीच एक शांत और कम भीड़-भाड़ वाला समुद्र तट है जो अपनी शांति के लिए जाना जाता है। पर्यटक प्राकृतिक सुंदरता का आनंद ले सकते हैं, समुद्र में ताजगी भरी डुबकी लगा सकते हैं, या जल क्रीड़ा गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं। यह समुद्र तट शहरी जीवन की हलचल से दूर एक शांतिपूर्ण वातावरण प्रदान करता है।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास बेट द्वारका:

बेट द्वारका भगवान कृष्ण से जुड़ा एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। ऐसा माना जाता है कि यह वह स्थान है जहां भगवान कृष्ण अपने परिवार के साथ रहते थे और द्वारका पर शासन करते थे। इस द्वीप तक नाव से पहुंचा जा सकता है और यह मंदिर, प्राचीन खंडहर और क्षेत्र के समुद्री इतिहास का पता लगाने का मौका प्रदान करता है।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग जाने का सबसे अच्छा समय

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग पूरे वर्ष भक्तों और आगंतुकों के लिए खुला रहता है। फिर भी नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की यात्रा का सबसे अच्छा समय सर्दियों के शुरुआती महीनों के दौरान अच्छा होता है, विशेष रूप से अक्टूबर से फरवरी तक। इस महीनो के दौरान, मौसम सुहावना और आरामदायक होता है। और गर्मियों की चिलचिलाती गर्मी और भारी मानसूनी बारिश से बच सकते हैं। हल्का और सुहावना मौसम आपकी यात्रा के समग्र अनुभव को बढ़ाता है, इन महीनो में कई महत्वपूर्ण त्योहारों और उत्सवों आते हैं, जैसे कि दिवाली और नवरात्रि। ये त्योहार क्षेत्र में उत्सव का माहौल लाते हैं, नागेश्वर ज्योतिर्लिंग पर विशेष प्रार्थनाएं और अनुष्ठान आयोजित किए जाते हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग तक कैसे पहुंचे? How to Reach Nageshvar Jyotirling

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर हवाई मार्ग से कैसे जाये :

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर का निकटतम हवाई अड्डा जामनगर हवाई अड्डा है, जो नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर से लगभग 130 किमी दूर स्थित है। आप भारत के प्रमुख शहरों से जामनगर के लिए हवाई मार्गो से आ सकते हैं और फिर यंहा से टैक्सी से या बस से नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर पंहुच सकते हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर ट्रेन से कैसे जाये :

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन द्वारका रेलवे स्टेशन है, जो नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर से लगभग 17 किमी दूर स्थित है। आप भारत के विभिन्न शहरों से द्वारका के लिए ट्रेन ले सकते हैं और फिर नागेश्वर ज्योतिर्लिंग तक पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या स्थानीय बस ले सकते हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर सड़क मार्ग से कैसे जाये :

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, और आप कार, टैक्सी या बस से वहां पहुंच सकते हैं। यदि आप द्वारका से यात्रा कर रहे हैं, तो आप ओखा की ओर राज्य राजमार्ग 6 ले सकते हैं। लगभग 17 किमी की दूरी तय करने के बाद आप नागेश्वर गांव पहुंचेंगे, जहां नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर स्थित है।

Exit mobile version