केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर का महत्व, कहानी व इतिहास -kedarnath jyotirlinga Temple history, story Importance in hindi

07/03/2024

kedarnath jyotirlinga Temple – केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर भारत के उत्तराखंड में हिमालय में स्थित है। यह मंदिर हिंदुओं के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर प्राचीन और भव्य मंदिर उत्तराखंड के चार धामों और पंच केदारों में से एक है, और भारत में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से केदारनाथ मंदिर पांचवा ज्योतिर्लिंग है। मंदिर में स्थित शिवलिंग प्राचीन है। हिमालय की गोद में अत्यधिक बर्फबारी के कारण, मंदिर भक्तो के लिए साल में केवल 6 महीने ही खुलता है। केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर केवल मई (अक्षय तृतीया) से कार्तिक पूर्णिमा पर नवंबर के बीच खुला रहता है।

kedarnath jyotirlinga Temple history in Hindi

प्रसिद्ध श्री केदारनाथ धाम का निर्माण मूल रूप से प्रसिद्ध पांडवों द्वारा किया गया था। फिर, 8वीं ईस्वी के दौरान आदि शंकराचार्य द्वारा इसका फिर से पुनर्निर्माण, जीर्णोद्धार किया गया। सदियों से,केदारनाथ मंदिर तीर्थयात्रियों और भक्तों के लिए एक पूजनीय स्थान रहा है जो भगवान शिव का आशीर्वाद लेने और धार्मिक अनुष्ठान करने के लिए आते हैं। केदारनाथ मंदिर को भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ा है। मंदिर 2013 में अचानक आई बाढ़ से बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था। वर्तमान मंदिर का निर्माण लगभग 1,200 साल पहले आदि शंकराचार्य ने किया था।

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर की कहानी – Story of Kedarnath Jyotirlinga Temple

केदारनाथ मंदिर की उत्पत्ति हिंदू मान्यता और भगवान शिव की कथा से जुड़ी है। पुराणों, प्रसिद्ध प्राचीन हिंदू ग्रंथों के अनुसार, यह मंदिर वह स्थान माना जाता है जहां भगवान शिव पांडवों से बचने के लिए नंदी के रूप में जमीन में गोता लगाया था, जो कुरुक्षेत्र युद्ध के बाद उनसे आशीर्वाद मांग रहे थे। . पांडव युद्ध में अपने पापों की क्षमा मांगने के लिए भगवान शिव की खोज में थे। व्यास ऋषि ने पांडवों को बताया कि वे युद्ध में अपने ही भाइयों की हत्या के दोषी थे और उनके पाप तभी माफ होंगे जब भगवान शिव उन्हें माफ कर देंगे। सबसे पहले, वे वाराणसी गए, जो शिव का पसंदीदा शहर कहा जाता है और काशी विश्वनाथ मंदिर के लिए जाना जाता है।

वाराणसी में भगवान शिव को न पाकर पाँचों भाई गढ़वाल हिमालय की ओर चले गये। वंहा भीम दो पहाड़ों पर खड़े होकर, शिव की तलाश करने लगे। उन्होंने गुप्तकाशी के पास एक नंदी को टहलते हुए देखा। भीम ने तुरंत पहचान लिया कि नंदी के रूप में भगवान शिव है। भीम ने ने नंदी की पूँछ पकड़ लिया। लेकिन नंदी जमीन में गायब हो गया, और फिर 5 स्थानों पर प्रकट हुए, केदारनाथ में कूबड़, तुंगनाथ में भुजाएँ, मध्यमहेश्वर में नाभि और पेट, रुद्रनाथ में चेहरा, और कल्पेश्वर में बाल और सिर।। पांडवों ने शिव की पूजा के लिए इन पांच स्थानों – पंच केदार – पर मंदिर बनाए। इससे वे पापों से मुक्त हो गये।

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों के नाम -Names of 12 Jyotirlingas of Lord Shiva

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों के नाम -Names of 12 Jyotirlingas of Lord Shiva
भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों के नाम -Names of 12 Jyotirlingas of Lord Shiva

1 .सोमनाथ ज्योतिर्लिंग– गिर सोमनाथ इन गुजरात

2. नागेश्वर ज्योतिर्लिंग – गुजरात में दारुकावनम

3.  भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग – पुणे इन महाराष्ट्र 

4. त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग – महाराष्ट्र ,नासिक

5. बाबा वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग – झारखण्ड में देवघर   

6. महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग – मध्य प्रदेश में उज्जैन

7. काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग – उत्तर प्रदेश में वाराणसी

8. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग– केदरनाथ इन उत्तराखण्ड

9. घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग– औरंगाबाद इन महाराष्ट्र

10.ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग – मध्य प्रदेश में खंडाव 

11 रामेश्‍वरम ज्‍योतिर्लिंग – तमिलनाडु में रामेश्‍वरम द्वीप

12 मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग – आंध्र प्रदेश में श्रीशैलम

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर का महत्व – Importance of Kedarnath Jyotirlinga Temple

केदारनाथ भारत के सबसे पवित्र 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। केदारनाथ मंदिर उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। केदारनाथ यात्रा और दर्शन खास महत्व है। यह मंदिर हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण पूजा स्थलों में से एक माना जाता है और हर साल हजारों भक्त यहां आते हैं। ऐसी मान्यत्या है कि इस मंदिर की यात्रा से भक्तों को जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति और मोक्ष प्राप्त करने में मदद मिलेती है। केदारनाथ ज्योतिर्लिंग भक्तों को असंख्य आशीर्वाद प्रदान करता है। केदारनाथ मंदिर में दिखाई देने वाला शिवलिंग एक कूबड़ के आकार का है। शिवलिंग प्रकाश के एक स्तंभ का प्रतिनिधित्व करता है जिसका कोई आरंभ और कोई अंत नहीं है।

केदारनाथ जाने का सबसे अच्छा समय क्या है? – What is the best time to visit Kedarnath?

बर्फबारी के कारण केदारनाथ हर साल नवंबर से मार्च तक 6 महीने के लिए बंद रहता है। नवंबर के बाद यहाँ भारी बर्फबारी होती है। केदारनाथ में मानसून का मौसम जुलाई से अगस्त तक रहता है और भारी वर्षा होती है, जिससे भूस्खलन और बाधाएं आती हैं। इस लिहाज से केदारनाथ की यात्रा के लिए अप्रैल से जून का समय सबसे अच्छा है, जो तीर्थयात्रियों और पर्यटकों के लिए सुखद मौसम और आरामदायक होता है। इस महीनो में बर्फ पिघलनी शुरू हो जाती है, केदारनाथ मंदिर जाने का रास्ता भक्तों के लिए सुलभ हो जाता है। मई व्यस्त महीना है और भीड़भाड़ रहती है। प्रतिष्ठित केदारनाथ मंदिर के दरवाजे अप्रैल के अंत या मई की शुरुआत में खुलते हैं।

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर कैसे पहुंचे? How to reach Kedarnath Jyotirlinga Temple?

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर कैसे पहुंचे How to reach Kedarnath Jyotirlinga Temple

आप केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर सड़क, ट्रेन और हवाई मार्ग से पहुंच सकते हैं। आप भारत के हर छेत्र से बड़ी आसानी से केदारनाथ पहुच सकते है, लेकिन आपको गौरीकुंड से केदारनाथ तक पैदल यात्रा करनी होगी।

केदारनाथ मंदिर सड़क से कैसे पहुंचे – How to reach Kedarnath Temple by road

केदारनाथ मंदिर पहुंचने के सबसे पहले हरिद्वार और ऋषिकेश आना है, हरिद्वार और ऋषिकेश शहर के लिए भारत से हर सहर से सुविधाएं उपलब्ध हैं। हरिद्वार और ऋषिकेश से, आप गौरीकुंड तक पहुंचने के लिए सीधी बसें प्राप्त कर सकते हैं या किराए पर कार ले सकते हैं। और अन्य निजी बसें उपलब्ध हैं। गौरीकुंड से आपको केदारनाथ तक पैदल यात्रा करनी होगी। गौरीकुंड तक कार से भी जाया जा सकता है।

केदारनाथ मंदिर ट्रेन से कैसे पहुंचे – How to reach Kedarnath Temple by train

ट्रेन से केदारनाथ मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम स्टेशन ऋषिकेश या हरिद्वार है। जो केदारनाथ से लगभग 255 किमी दूर है, आपको ट्रेन से ऋषिकेश या हरिद्वार पहुंचना होगा और वहां से आपको गौरीकुंड के लिए बस मिल जाएगी या किराए की कार मिल जाएगी।

केदारनाथ मंदिर हवाई जहाज से कैसे पहुंचे – How to reach Kedarnath temple by plane

केदारनाथ मार्ग का निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट हवाई अड्डा, देहरादून है। ऋषिकेश से यह 21.7 किमी दूर है। आप किसी भी शहर से फ्लाइट या कनेक्टिंग फ्लाइट लेकर देहरादून एयरपोर्ट पहुंच सकते हैं। उसके बाद आप गौरीकुंड पहुंचने के लिए बस या कार ले सकते हैं।

Exit mobile version