April 4, 2020
places to visit in rajasthan (rajasthan tourism) in hindi राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल

places to visit in rajasthan (rajasthan tourism) in hindi राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल

places to visit in Rajasthan (Rajasthan tourism) in Hindi राजस्थान राजाओ और वीरो की भुमी है,राजस्थान की प्राचीन स्मारक आज भी सान से कड़ी है जो राजाओ और योधाओ की वीरता की कहानी कहते है, राजस्थान भारत का सबसे बड़ा राज्य है, राजस्थान 342,239 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है जो भारत के कुल क्षेत्रकल के 10% हिसे से ज्यादा है। राजस्थान भारत का सबसे बडे राज्य के साथ , इसका ज्यादातर भाग थार,और रेत के विसाल तिलों से घिरा है। राजस्थान पर्यटन (rajasthan tourism) खास पर्यटन राज्य है जो हर साल अपने आकर्षक पर्यटन स्थलों की वजह से दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है।

राजस्थान में वास्तुकला और भारतीय सभ्यता आज भी जिन्दा है, जिसे देखने देश विदेश लाखो पर्यटक आते है, राजस्थान के राजा महाराजो के अतीत की झलक दिखाई पड़ती है, सेंकडो वर्षो से खड़े यह इमारत अपने अतीत की कहानी कहती है, राजस्थानी कला की एक विशिष्ट शैली है जो इसको विश्व के सबसे सांस्कृतिक रूप से विविध स्थानों में से लोकप्रिय बनती है। महाराजाओं के भव्य महलों और राजसी किले आज विश्व भर पर्सिद है। आज हम आप को ऐसे कुछ किलो और भवन की जानकारी दे रहे है,

बीकानेर का जूनागढ़ किला/JUNAGADH FORT OF BIKANER

बीकानेर का जूनागढ़ किला/Junagadh Fort of Bikaner  राजस्थान की धरती प्राचीन काल से वीरो की धरती रही है। राजस्थान की धरती में बसा है बीकानेर, बिकानेर में स्थित जूनागढ़ किला एक बहुत ही खूबसूरत और शानदार है। ये किला  बीकानेर शहर के बीचो बिच बसा हुआ है। इतिहास काल में इस किले को बीकानेर किले के नाम से बोला जाता था लेकिन 20 वीं शताब्दी में बीकानेर किले का नाम बदलकर जूनागढ़ रख दिया गया। जूनागढ़ किले की नीव सन 1478 में महाराजा राव बीका के द्वारा शुरू राखी गई थी, लेकिन इस भव्य और खूबसूरत संरचना का निर्माण 17 फरवरी 1589 को राजा राय सिंह द्वारा शुरू किया गया था। बीकानेर के बारे में आगे पडे-

कुम्भलगढ़ किला-KUMBHALGARH FORT HISTORY IN HINDI

कुम्भलगढ़ किला-Kumbhalgarh Fort History in Hindi , दोस्तों आपने विश्व की सबसे लम्बी दिवार {The Great Wall Of China } के बारे में तो सुना ही होगा। लेकिन क्या आप जानते है। विशव कि दूसरी सबसे लम्बी दीवार भारत में है। जी हा दोस्तों भारत के राज्य राजस्थान के राजसमंद जिले में स्थित कुम्भलगढ़ फोर्ट बात कर रहे है। इस किले कि दीवार 36 किलोमीटर लम्बी है।और 15 फीट चौड़ी है। इस किले का निर्माण वीर यौधा महाराणा कुम्भा ने करवाया था। यह दुर्ग समुद्रतल से करीब 1100 मीटर कि ऊचाईं पर स्थित है। कुम्भलगढ़ के बारे आगे जाने

जोधपुर घूमने लायक जगह/JODHPUR DEKHNE LAYAK JAGAH

जोधपुर घूमने लायक जगह/jodhpur dekhne layak jagah
Jodhpur tourist places
जोधपुर घूमने लायक जगह/jodhpur dekhne layak jagah जोधपुर शहर जिसे मारवाड़ भी बोलते है , जोधपुर अपनी मीठी बोली के लिए पुरे भारत में फेमस है और यहाँ की भांषा , वेशभूषा , रंग बिरंगे राजस्थानी  परिधान सब को अपनी और आकर्षित करते है। जोधपुर शहर में घूमने के लिए बहुत ऐसे स्थान हैं जो शहर के शाही इतिहास और संस्कृति में डूबे हैं। जोधपुर, नीले रंग में रंगे मकानों से भरा पड़ा है। प्राचीन इमारतें और इनके बीच से निकलती घुमावदार गलियां उन गलियों में लाल गुलाबी पगड़ी बांधे धोती कुर्ता पहने वहा के वासिंदे बहुत ही मनमोहक लगते है। जोधपुर के मस्तक पर विराजमान हैं मेहरानगढ़ का किला और उम्मेद भवन। जोधपुर के बारे और जाने 

भानगढ़ का किला -BHANGARH FORT HISTORY IN HINDI

भानगढ़ का किला -Bhangarh Fort History In Hindi दोस्तों हमारे देश  भारत में बहुत सारे डरावने और रहस्मय किले और हवेलिया है। आज हम जिस किले की बात कर रहे है । वो भानगढ़ का किला{Bhangadh Fort} , जिसे दुनिया भूतो का किला भी बोलती है । हमारे देश आज भी भूतो के नाम से दिल की धडकने तेज हो जाती है । वही इस किले को देखने के लिए देश विदेश लाखो पर्यटक आते है। भानगढ़ का किला मुख्य पर्यटक स्थल है । राजस्थान की राजधानी जयपुर से 85 किलोकिटर दूर अलवर जिले में स्थित है। ये जयपुर देहली राजमार्ग से जुडा हुआ है। भानगढ़ का किला के बर्बाद होने के इतिहास और रहस्यमयी घटनाओं के कारण मशहूर है। इस किले को भारत का सबसे डरावना किला मन जाता है।भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा भी सूर्योदय और सूर्यास्त के उपरांत किले में ना आने संबंध में चेतावनी जारी की गई है। भानगढ़ के बारे और अधिक जाने 

जयपुर का हवा महल | FULL HISTORY OF JAIPUR

जयपुर का हवा महल | FULL HISTORY OF JAIPUR
जयपुर का हवा महल | FULL HISTORY OF JAIPUR

 Full history of Jaipur राजस्थान की राजधानी जयपुर पिंक सिटी देशी-विदेशी सैलानियों की पहली पसंद है। चारो ओर से आरवाली पर्वतमलाओ की गोद में बसा जयपुर शहर । शानदार महलों ओर भवनों वाले इस शहर को बनाते समय इसमें आवागमन के लिए 7 प्रवेश द्वार बनाए गए थे। बता दें कि जयपुर शहर जहां बसा हुआ है, वहां कभी 6 गांव हुआ करते थे।

places to visit in rajasthan (rajasthan tourism) in hindi राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल

जिस 6 गांवों को जोड़कर जयपुर को बसाया गया था उन गांवों पुराना नाम आज के वर्तमान के नामों से भिन्न थे। – नाहरगढ़, तालकटोरा, संतोषसागर, आज का मोती कटला, गलताजी और आज के किशनपोल को मिलाकर जयपुर को बनाया गया था। – सिटी पैलेस के उत्तर में एक झील तालकटोरा हुआ करती थी। इस झील के उत्तर में एक और झील थी जो बाद में राजामल का तालाब बन गई । जयपुर शहर को बसाते समय सड़कों और अन्य मार्गो का विशेष ख्याल रखा गया था शहर की मुख्य सड़कों  की चौड़ाई पर खास ध्यान दिया गया। जयपुर की पूरी जानकारी 

नाहरगढ़ किला–NAHARGARH FORT JAIPUR

नाहरगढ़ किला–Nahargarh Fort Jaipur History in Hindi नाहरगढ़ किला राजस्थान की राजधानी जयपुर में उत्तर—पश्चिम में अरावली की पहाड़ी पर स्थित हैं। यह किला जयपुर के राजा सवाई जय सिंह द्वारा बनाया गया था। पीले रंग का नारहगढ़ किला गुलाबी नगर की खूबसूरती में चार चांद लगाता है। नाहरगढ़ का किला शहर के लगभग हर कोने से नजर आता है। इस किले को देखना निश्चित ही आनंदमयी और मनमोहक होता है।

आमेर किले और जयगढ़ किले के साथ नाहरगढ़ किला भी जयपुर शहर को कड़ी सुरक्षा प्रदान करता है। असल में किले का नाम पहले सुदर्शनगढ़ था लेकिन बाद में इसे नाहरगढ़ किले के नाम से जाना जाने लगा। इस किले का नामकरण जयपुर के राजकुमार नाहर के नाम पर किया गया था। कहा जाता है कि राजकुमार की आत्‍मा, इस किले के निर्माण में काफी बाधा पहुंचाती थी जिसके बाद किले  के परिसर में एक मंदिर का निर्माण करवाया गया जिसमें राजकुमार की आत्‍मा की शांति के लिए काफी प्रयास किए गए थे। नाहरगढ़ किला के बारे में और अधिक जाने 

places to visit in rajasthan (rajasthan tourism) in hindi राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल

भारत का सबसे विशाल और धार्मिक स्थल – रणकपुर जैन मंदिर – Ranakpur Jain Temple in hindi
भारत का सबसे विशाल और धार्मिक स्थल – रणकपुर जैन मंदिर – Ranakpur Jain Temple in hindi

रणकपुर जैन मंदिर का निर्माण करीब 600 साल पहले 1439 में हुआ था। रणकपुर जैन मंदिर को बनाने में बहुत लम्बा समय लगा था, और उस समय इसके निर्माण में करीब 1 करोड़ रुपए की राशि का खर्च आया था। रणकपुर जैन मंदिर (Ranakpur Jain Mandir) का निर्माण राणा कुम्भा के सासन काल में हुआ था, राणा कुंभा ने इसके बाद रणकपुर जैन मंदिर को बनवाने के लिए धरनशाह को जमीन दे दी, इसके साथ ही एक नगर बसाने के लिए भी कहा। इस भव्य मंदिर के रखरखाव की जिम्मेदारी 1953 में एक ट्रस्ट को दे दी गई, जिसके बाद इस मंदिर का पुनरुद्दार कर इसे खूबसूरत और नया रुप दिया गया। रणकपुर जैन मंदिर ओर जाने 

माउंट आबू-BEAUTIFUL TOURIST PLACES MOUNT ABU IN HINDI

माउंट आबू राजस्थान के मारवाड़ क्षेत्र के सिरोही जिले में अरावली की पहाड़ियों की सबसे विशाल ऊंची चोटी पर स्थित है। प्राचीन काल में राजा महाराजाओं की पसंदीदा जगह हुआ करती थी। ये जगह राजा महाराजाओं के विश्राम करने के लिए सबसे श्रेष्ठ स्थान माना जाता था। क्यों कि यहां का पर्यावरण बहुत ही सुहाना तथा मन को प्रफुल्लित करने वाला माना जाता है। माउंट आबू राजस्थान के 328 वर्ग किलोमीटर भूभाग पर फैला हुआ है।माउंट आबू समुद्री सतह से 1219 मीटर औसत ऊंचाई पर खड़ा भूभाग है। माउंट आबू की पूरी जानकारी 

पुष्कर के घूमने की प्रमुख जगह –PUSHKAR TOURIST PLACES IN HINDI

पुष्कर शहर राजस्थान के अजमेर जिले में स्थित हैं। अजमेर से पुष्कर की दुरी 15 किलोमीटर है। पुष्कर को संस्कृति और ब्रह्मा का शहर भी कहा जाता हैं। ये हिन्दूओ के प्रमुख धर्म स्थल में एक है। ब्रह्मा जी का एक मात्र मंदिर पुष्कर में ही बना हुआ हैं। राजस्थान का पुष्कर शहर भारत के सबसे पुराने शहरों में से एक माना जाता है।  यहां आयोजित होने वाले ऊंट मेला के लिए पुष्कर विश्व प्रसिद्ध हैं। जो हर वर्ष में नवम्बर के महीने में धूम-धाम से मनाया जाता हैं। राजस्थान का पुष्कर बहुत ही प्यारा पर्यटक स्थल है । हिन्दुओ  की आस्था के अनुसार पुष्कर के जल में स्नान करने व डुबकी लगाने का विशेष ही महत्व माना जाता है।