October 15, 2020
nathu la pass in hindi! भारत चीन सीमा नाथूला पास ! nathula pass border permit

nathu la pass in hindi! भारत चीन सीमा नाथूला पास ! nathula pass border permit

nathu la pass in hindi नाथूला पास हिमालय का एक पहाड़ी दर्रा है जो भारत के सिक्किम राज्य और दक्षिण तिब्बत में चुम्बी घाटी से जुड़ा हुआ है। नाथूला पास {nathu la pass}14 हजार 200 फीट की ऊंचाई पर है। नाथूला पास भारत की सिक्किम की राजधानी गान्तोक शहर से 56 किलोमीटर पर स्थित है, केवल भारतीय नागरिक ही यहाँ जा सकते हैं और इसके लिए भी उन्हें गान्तोक से पास बनवाना होता है। भारत और चीन के बीच 1962 में हुए युद्ध के बाद इसे बंद कर दिया गया था। फिर साल 2006 में व्यापार समझौतों के बाद नाथू ला पास को वापस खोला गया। नाथूला पास में हिन्दू और बौद्ध तीर्थयात्रियों के लिए महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान है,

nathu la pass in hindi! भारत चीन सीमा नाथूला पास ! nathula pass border permit

सिक्किम का नाथुला दर्रा घुमना हर किसी का एक सपना होता है जो शोरगुल शहरी जीवन से बचना चाहता है और नाथुला पास सुद्ध और शांत वातावरण प्रदान करता है। इस दर्रे की सुंदरता हर साल बड़ी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करती है इसे भारत-चीन सीमा के चौराहे पर सबसे महत्वपूर्ण मार्गों में से एक माना जाता है। यदि आप सिक्किम की खुबसूरत जगह देखना चाहते हे, तो प्रसिद्ध नाथुला दर्रे की यात्रा निश्चित रूप से सिक्किम में घूमने के लिए आपकी प्राथमिकता सूची में होनी चाहिए।

मथुरा के तीर्थ स्थल की जानकरी यहाँ पढ़ें

History of Nathula Pass in hindi नाथुला पास का इतिहास

नाथुला पास भारत चीन सीमा जोड़ता nathula pass border है, को लगभग चार दशकों के लिए सील रखा गया था, जब पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ़ चाइना ने 1959 में तिब्बती विद्रोह का दमन किया था। यफिर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 2003 में चीन यात्रा के बाद था। फिर से शुरू किया गया। नाथुला दर्रा जब से फिर से खोला गया (2006 में) एक आधिकारिक सीमा कार्मिक बैठक के रूप में कार्य करता है।

Strategic Importance of Nathula Pass नाथुला पास का सामरिक महत्व

Strategic Importance of Nathula Pass नाथुला पास का सामरिक महत्व
Strategic Importance of Nathula Pass नाथुला पास का सामरिक महत्व

नाथुला दर्रा ने भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और चीन के साथ सीमा संबंधों को बेहतर बनाने में भी मदद की है। यह चीन-भारतीय व्यापार में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। नाथूला दर्रे से बौद्ध और हिंदू तीर्थ दूरी भी कम हो गई है।

बेस्ट हिंदी शायरी कलेक्शन click here

Best time to visit Nathula Pass nathu la pass in hindi नाथुला पास यात्रा करने का सही समय

मार्च से अक्टूबर के बीच नाथुला जाने का बेहतर समय है। सर्दियों के दौरान यहां का तापमान -27 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है। आपको सांस की दिक्कत भी हो सकती है। यहां का तापमान अत्यधिक कम होता है। गर्मी के मौसम में तापमान 10 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है। पर्यटकों को भारी बारिश और भूस्खलन की उच्च संभावना के कारण जून से सितंबर के दौरान जगह का दौरा नहीं करने की सलाह दी जाती है। पर्यटकों के लिए नाथुला दर्रा जाने के लिए आदर्श महीने अप्रैल से मध्य जून और अक्टूबर और नवंबर हैं।

Who can go to Nathula ! नाथुला पास कौन जा सकता है?

नाथुला दर्रे पर केवल उन भारतीय नागरिकों द्वारा ही जाया जा सकता है जो वैध परमिट रखते हैं। भारतीय नागरिक पर्यटन और नागरिक उड्डयन विभाग को परमिट के लिए आवेदन कर सकते हैं। सिक्किम जाते समय आप अपनी ट्रैवल एजेंसी के माध्यम से भी आवेदन कर सकते हैं। पास परमिट की लागत INR 200 प्रति व्यक्ति है।

जोधपुर घूमने लायक जगह, यहाँ पढ़ें
हिमाचल प्रदेश पर्यटन स्थल, यहाँ पढ़ें

Tourist Attractions at Nathula Pass नाथूला दर्रे पर पर्यटकों के आकर्षण

Tourist Attractions at Nathula Pass नाथूला दर्रे पर पर्यटकों के आकर्षण
Tourist Attractions at Nathula Pass नाथूला दर्रे पर पर्यटकों के आकर्षण

Baba Harbhajan Singh Temple Nathula Pass बाबा हरभजन सिंह मंदिर नाथुला पास

बाबा हरभजन सिंह की याद में एक मंदिर है, जो भारतीय सेना का जवान था। मंदिर में एक आकर्षक इतिहास जुड़ा हुआ है और यह सिक्किम में एक लोकप्रिय दर्शनीय स्थल है। यह पहाड़ी बाबा हरभजन सिंह मंदिर के पास स्थित है, जिस पर “मेरा भारत महान” शब्द लिखा हुआ है। आप यहाँ एक विशाल देशभक्ति की भीड़ में आएँगे।

Tsomo Lake Nathula Pass nathu la pass in hindi त्सोमो झील नाथुला पास

चंगु झील के रूप में लोकप्रिय यह स्थान बेहद रमणीय दृश्य प्रस्तुत करता है और हर यात्री के लिए एक खुशी की बात है। झील के रंग मौसम के अनुसार बदलते हैं और आमतौर पर सर्दियों के दौरान जम जाते हैं। यह एक प्रसिद्ध गंतव्य है जो कई उत्तर पूर्व टूर पैकेजों में शामिल है।

Mandakini waterfalls near Nathula नाथूला के पास मंदाकिनी झरना

Tourist Places in Gangtok click

यह आपके नाथुला दर्रे के दौरे का एक और सुंदर पड़ाव है। कुछ अद्भुत चित्रों को क्लिक करें और इस जगह पर कुछ शानदार स्नैक्स का आनंद लें। शहर के जीवन की हलचल से दूर होने और आपको अपने सिक्किम दौरे का अनुभवहीन अनुभव प्रदान करने के लिए नाथुला पास एक आदर्श स्थान है। हिमालय की गोद में स्थित नाथुला पास (दर्रा) भारत और चीन के बीच प्राचीन व्यापारिक मार्ग है। प्राचीन काल में इसे ओल्ड सिल्क रोड के नाम से जाना जाता था। यह दर्रा भारत को तिब्बत से जोड़ता है। व्यापारियों के लिए यह दर्रा काफी महत्वपूर्ण है। यह पास सामरिक दृष्टि से भी अत्यधिक महत्वपूर्ण है। यहां भारत और चीन के सैनिक सदैव ड्यूटी पर तैनात रहते हैं। यह समुंद्र तल से 4310 मीटर की ऊंचाई पर है।

How to reach Nathula Pass कैसे पहुंचे नाथुला पास

सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 54 km की दूरी पर नाथुला पास स्थित है। यहां पर आप केवल फोर व्हीलर वाहन से ही पहुंच सकते हैं। बुद्धिस्ट और हिन्दू तीर्थयात्रियों के लिए प्राचीन तीर्थ स्थल है। नाथुला पास के लिए परमिट जरूरी, नाथुला पास जाने वाले भारतीय नागरिकों को परमिट की जरूरत पड़ती है। यह परमिट टूरिज्म और सिविल एविएशन डिपार्टमेंट से मिलता है। मंडे और ट्यूजडे को बंद रहता है। रजिस्टर्ड ट्रेवेल एजेंट से बुकिंग कराए।

How to reach by bus, train or flight

नाथुला से 178 किमी दूर बागडोगरा एयरपोर्ट है। यहां से आप टैक्सी के जरिए आसानी से नाथुला पहुंच सकते हैं। और यहाँ से न्यू जलपाईगुड़ी नियरेस्ट रेलवे स्टेशन सबसे नजदीक है।

nathula pass images in hindi ! nathula pass images in may
nathula pass images in hindi ! nathula pass images in may
nathula pass images in hindi ! nathula pass images in may
दोस्तों उमीद हे आप nathu la pass in hindi! भारत चीन सीमा नाथूला पास ! nathula pass border permit जरुर पसद आई है,