October 17, 2021

कुल्लू मनाली पर्यटन स्थल – Kullu Manali Tourism In Hindi

कुल्लू-मनाली-पर्यटन-स्थल - Kullu-Manali-Tourism-In-Hindi

Kullu Manali Tourism In Hindi हिमाचल प्रदेश के मुख्य पर्यटन स्थल कुल्लू और मनाली, अपने प्राकृतिक भव्यता और दर्शनीय स्थलों के लिए पर्यटकों के बिच काफी लोकप्रिय है, कुल्लू और मनाली की यात्रा रोमांच के अवसरों से परे प्रतीत होते हैं। कुल्लू, क लिए माना जाता है, कि यह नगर देवताओं के लिए उपयुक्त है, जो पर्यटक इसकी विविधता के साथ सुखद आश्चर्यचकित महसूस करता है। और मनाली में, आप जो देखते हैं, वह वही है, चाँदी जेसे चमकते बर्फीले पहाड़, मधुर आवाज में लहराती झीले, सफ़ेद पानी से उतरते झरने, सुन्दर हरी-भरी वादिया के मनोहरं द्रश्य जो दीवाना कर देने में समक्ष है, इसलिये तो हिमाचल प्रदेश को देवो की भूमि कहा जाता है।

कुल्लू में घूमने की जगह Kullu Tourism In Hindi

घूमने के लिहाज से कुल्लू में कई सुन्दर पर्यटन स्थल हैं, ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क। यह एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है। कुल्लू के मणिकरण गाँव में गुरुद्वारा पर्यटको के लिए सबसे प्रसिद्ध जगह है। यहां माना जाता है, कि गर्म सल्फर स्प्रिंग्स में चिकित्सीय गुण होते हैं। कसोल, मिनी-इज़राइल के रूप में प्रसिद्ध हैं।, यहाँ बड़ी संख्या में इज़राइलि पर्यटक आते है, जो कसोल के खुबसूरत द्रश्य से आकर्षित होते हैं। कसोल हनीमून के लिये सबसे अच्छा स्थान है,

कुल्लू से लगभग 2 घंटे की दूरी पर स्थित बंजार नदी और दूसरी तरफ शोजा घाटी, है जिसकी सुंदरता देखने को बनती है, यह वास्तव में धरती का स्वर्ग है। साहसिक पर्यटकों के लिय भी मनपसन्द जगह है। बिजली महादेव मंदिर कुल्लू घाटी के सुंदर दृश्य बहुत ही मनमोहक हैं, जो सभी तरह के पर्यटकों आकर्षित करते हैं।

मनाली में घूमने की जगह – Manali Tourism In Hindi

मनाली हिमाचल प्रदेश का सबसे बहतरीन पर्यटन स्थल है, जो दुनिया भर के पर्यटकों की पहली पसंद, के साथ हनीमून मनाने और छुट्टियों बिताने के लिये लोकप्रिय स्थान है। मनाली देवदार के जंगलों, नदियों और सदा बर्फ से ढकी चोटियों से घिरा है। यहाँ पर्यटकों के लिये कई दर्शनीय स्थल हैं, मनाली का सबसे बड़ा पर्यटक आकर्षण रोहतांग दर्रा है, जो मनाली से लगभग 51 किमी दूर स्तिथ है। यहाँ पैराग्लाइडिंग, स्कीइंग और ट्रेकिंग जैसी गतिविधियों का आनंद लेने को आकर्षित करता है।

पर्यटकों लिए सोलंग वैली, जो मनाली से लगभग 13 किमी दूर है, जो हिमाचल प्रदेश में देखने लायक शानदार जगह है। मनाली में एक और पर्यटक आकर्षण हडिम्बा देवी मंदिर है, जो चार स्तरीय पगोडा शैली की लकड़ी और पत्थर की संरचना है। आप मनाली से लगभग 22 किमी दूर स्थित नग्गर कैसल में भी जा सकते हैं। यहां कई स्मारक हैं जो आपको अपने शानदार अतीत की याद दिलाते हैं, आपके कुल्लू मनाली यात्रा के दौरान देखने के लिए अन्य स्थान हैं, जिसमे नेहरू कुंड, जगत सुख गांव, मनाली वन्यजीव अभयारण्य और पर्वतारोहण संस्थान। आप द मॉल में घूम सकते हैं।

कुल्लू मनाली में लोकप्रिय पर्यटक स्थल – Kullu Manali Tourism In Hindi

कुल्लू मनाली में लोकप्रिय पर्यटन स्थल, व् आकर्षण दर्शनीय स्थलों की यात्रा आप को रोमांचित कर देने के लिए एक सुंदर अवसर हैं। कुल्लू के ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क से लेकर, कसोल के मनमोहक दश्य, या मधुर आवाज में बहती ब्यास नदी, हडिम्बा मंदिर में मन की शांति, मॉल रोड की चहल पहल हो या मनाली की खुबसूरत वादिय यह सब आपकी यात्रा को यादगार बना देती है।

हडिंबा मंदिर कुल्लू मनाली Hadimba Temple Kullu Manali Tourism In Hindi

हडिम्बा मंदिर एक ऐतिहासिक स्मारक, जो 16 वीं शताब्दी में बनाया गया था, मनाली में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है, हडिम्बा मंदिर मनाली में एक पहाड़ी की चोटी पर है, जो सुंदर देवदार जंगल के बीच में स्थित है। यह प्राचीन मंदिर स्थानीय लोगों की आस्था से जुड़ा होने की वजह से बहुत महत्व है, देश विदेश के लाखो सेलानी देवी माँ हडिम्बा का आशीर्वाद लेने के लिए मंदिर आते हैं। मंदिर देवी हडिम्बा को समर्पित है, जो पांडव भाइयों, भीम की सबसे मजबूत पत्नी थी। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, विशाल हडिम्बा ने इस क्षेत्र में ज्ञान प्राप्ति के साधना की थी। तब सर्व शक्ति देवी माँ दुर्गा ने उन्हें देवी का स्थान दिया, जिसका 10 सेंटीमीटर का पदचिह्न मंदिर के प्रवेश द्वार पर संरक्षित है।

देवी हडिम्बा मंदिर की परिधि में ध्यान लगाती थीं, जहाँ देवता की एक मूर्ति रखी है, जो 60 सेंटीमीटर की ऊंचाई तक बढ़ती है। इस मंदिर का निर्माण राजा बहादुर सिंह ने एक विशिष्ट स्थापत्य शैली में कराया था। मंदिर परिसर में घटोत्कच का मंदिरभी है, घटोत्कच भीम और हडिम्बा का पुत्र है और महाभारत का एक युद्ध नायक है, जिसकी मूर्ति मुख्य रूप से लकड़ी से बनी है और हडिम्बा मंदिर से 70 मीटर की दूरी पर स्थित है।

रोहतांग दर्रा मनाली Rohtang Pass Kullu Manali Tourism In Hindi

कुल्लू क्षेत्र में सबसे शानदार स्थलों में से एक रोहतांग दर्रा है। यह सुरम्य दर्रा मनाली से 39 किमी की ऊँचाई पर मनाली केलांग हाईवे पर लगभग 51 किमी दूर स्थित है। यह पहाड़ का किनारा इतना सुंदर है कि देश के कोने-कोने से लोग स्कीइंग, आइस स्केटिंग, पैराग्लाइडिंग, आदि जैसे साहसिक खेलों का अभ्यास करने के लिए इस स्थान पर जाते हैं। रोहतांग दर्रा अप्रैल से अक्टूबर तक पर्यटकों के लिए यात्रा करने की अनुमति है। इस सड़क पर यह भारतीय सेना की निगरानी में रहती है, सर्दियों के मोसम में यह रास्ता बर्फ से ढक जाता है, जिसे बाद में साफ किया जाता हैं।

Rohtang Pass Tourism In Hindi

हिमाचल प्रदेश पर्यटन स्थल-Himachal Pradesh Tourist Places

रोहतांग पास के लिये वही सड़क है, जो मनाली से लेह लद्दाख (जम्मू और कश्मीर राज्य) को जोड़ती है। यह हर साल 25 लाख से अधिक सेलानी आते है, यह मार्ग पूरी तरह से सर्दियों में बर्फ से ढके रहते हैं, मई में, बर्फबारी के दौरान रोहतांग, प्रकृति के प्रति और साहसिक पर्यटको के लिये स्वर्ग से कम नहीं होता, जो स्कीइंग, स्केटिंग, पैराग्लाइडिंग, स्नोमोबिलिंग, आदि जैसे साहसिक खेलों का अनुभव कर सकते हैं।

मनाली के रोहतांग पास की महत्वपूर्ण जानकारी

रोहतांग नाम का अर्थ है ‘लाशों की भूमि’, इस कठिन पर्वत श्रृंखला को पार करने वाले लोगों की संख्या के कारण। यह हिमालय के पीर पंजाल पर्वत श्रृंखला में स्थित है और पांगी और लेह घाटी के प्रवेश द्वार के रूप में काम करता है। रोहतांग दर्रा आर्द्र कुल्लू घाटी के बीच एक प्राकृतिक विभाजन है, जिसमें एक प्रमुख हिंदू संस्कृति है, रोहतांग दर्रे में रहने का कोई विकल्प नहीं हैं।

सोलांग घाटी, मनाली – Solang Valley Kullu Manali Tourism In Hindi

सोलांग-घाटी-मनाली - Solang-Valley-Kullu-Manali-Tourism-In-Hindi

सोलांग घाटी को ‘वैली ऑफ द स्नोज’ के रूप में भी जाना जाता है, सोलांग घाटी ट्रेकिंग करने वालो के लिये मन पसंद जगह है, यहाँ स्कीइंग, स्काईडाइविंग, पैराग्लाइडिंग, ट्रेकिंग और पर्वतारोहण जैसे सर्दियों के दौरान विभिन्न साहसिक खेलों की मेजबानी करने के लिए प्रसिद्ध है। यह चमकदार घाटी मनाली की सबसे मनोरम जगहों में से एक है और समुद्र तल से 2,560 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह मनाली में छुट्टी पर पर्यटकों के लिए सबसे पसंदीदा ट्रेकिंग स्पॉट में से एक है। सोलांग घाटी, सोलांग और ब्यास कुंड के बीच स्थित है और ग्लेशियरों और बर्फ से ढके पहाड़ों के राजसी दृश्य प्रस्तुत करते हैं।

मनाली इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग ने प्रशिक्षण उद्देश्यों के लिए एक स्की लिफ्ट स्थापित की है और एक छोटा केबिन और माउंटेनियरिंग और संबद्ध खेल संस्थान से संबंधित एक गेस्ट हाउस है। हर साल सोलंग में विंटर स्की फेस्टिवल का भी आयोजन किया जाता है और पर्यटकों के मनोरंजन के लिए ज़ोरबिंग, हॉर्स राइडिंग और स्नोमोबाइल राइड्स जैसी गतिविधियाँ पेश की जाती हैं।

जगत सुख मंदिर मनाली Himachal Pradesh – Jagatsukh temple Kullu Manali Tourism In Hindi

जगत्सुख मंदिर शिव भगवान का प्राचीन मंदिर है, यह मंदिर कुल्लू घाटी के उत्तरी छोर पर स्थित है, जो मनाली से केवल 6 किमी दक्षिण में स्थित एक छोटे से शहर में है। जगत्सुख मंदिर, अपने प्राचीन इतिहास के लिए काफी प्रसिद्ध है, शिखर शैली में निर्मित एक शिव मंदिर, जिसे जगतसुख शिव मंदिर भी कहा जाता है। यह मंदिर सुरम्य घाटियों और ऊंचे बर्फ से ढके पहाड़ों से घिरा हुआ है, यहाँ सर्दियों के दौरान अद्भुत द्रश्य दिखाई देते हैं।

एक हिंदू तीर्थ स्थान होने के साथ, सेलानियो में काफी लोकप्रिय है, यहाँ नवविवाहित जोड़े भगवन शिव से आशीर्वाद लेन आते है, इस वजह से यह जगह एक आदर्श हनीमून स्थल के रूप में भी प्रशिद, और कई पर्यटक भगवान दरबार में लगाने भी आते है,ताकि इस स्थान पर मन की शांति के साथ यहाँ की सुंदरता का आनंद लिया जा सके। जगत्सुख मनाली की पूर्व राजधानी थी और वर्तमान में कुल्लू जिले का सबसे बड़ा शहर है। यह भगवान शंकर का प्रसिद्धि मंदिर है, जो हिंदू भगवान शिव को समर्पित है।

वशिष्ठ मंदिर मनाली – Vashisht Temple Kullu Manali Tourism In Hindi

वशिष्ठ मनाली से लगभग 3 किमी दूर स्थित एक छोटा शहर है,ब्यास नदी के दूसरी ओर स्थित है । यह खूबसूरत शहर अपने शानदार झरनों और वशिष्ठ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है, यह प्रशिद मंदिर झरनों के ठीक बगल में है। खुबसूरत झरनों के पास इस मंदिर का द्रश्य बहुत ही मनोहरं है। माना जाता है, कि इस झरने के पानी में बड़ी हीलिंग शक्तियां हैं, जो कई त्वचा रोगों और अन्य संक्रमणों को ठीक कर सकती हैं। इन झरनों का पानी गर्म होता है, वशिष्ठ शहर कई मंदिरों का भी घर है, जो एक स्थानीय संत वशिष्ठ और भगवान राम को समर्पित हैं। इस स्थान पर ताज़ा हवा और शुद्ध वातावरण है, मंदिर में विराजमान देवता का आशीर्वाद मांगने लाखो विदेशी पर्यटक माथा टेकने आते है।

रहला फॉल्स मनाली – Rahala Falls Kullu Manali Tourism In Hindi

प्रभावशाली रहला जलप्रपात 8,500 फीट की ऊंचाई पर है, और मनाली से लगभग 30 किलोमीटर की ऊंचाई पर रोहतांग पास की सड़क पर स्थित है। जो भी पर्यटक रोहतांग पास का दौरा करता है, वह जगह की प्राकृतिक सुंदरता का नजारा देख कर यहाँ रुक जाता है, और रहला फॉल्स के द्रश्य का आनंद लेता है। फोटोग्राफर के यह जगह जन्नत के समान है, साहसिक पर्यटक यहाँ बर्फीली चट्टान पर चलने का आन्नद लेते है, यहाँ पहाड़ो से गिरती सफ़ेद बर्फ का द्रश्य सुखदायक होता है, और पर्यटक ग्लेशियरों से पिघलने वाली बर्फ का आनंद लेते है।

रहला झरना ग्लेशियरों के पिघलने का नतीजा है, इसलिए इस झरने का पानी बेहद ठंडा है। यहाँ देवदार के घने जंगल, चांदी के बर्च के पेड़ों और ताजी, सुगंधित हवा के बीच हर कोई समय बिताना चाहता है। इस स्थान पर मनाली से आसानी से पहुँचा जा सकता है, आप यहाँ आने के लिये बस, कार, बाइक से भी यात्रा कर सकते हैं। इस जगह का दृश्य वास्तव में सुहाना रहता है, और पर्यटकों के मन की शांति देता है। सुखद जलवायु और अद्भुत वातावरण इसे मनाली के सबसे अच्छे आकर्षणों में से एक बनाते हैं।

कोठी गाव, मनाली – Kothi Village Kullu Manali Tourism In Hindi

कोठी मनाली का एक सुंदर सा गांव है, मनाली से 16 किमी. की दूरी पर स्थित है। जो समुद्र स्‍तर से 2500 मीटर की ऊंचाई पर है। कोठी एक प्रभावशाली जगह है, जो रोहतांग पास के तटीय इलाके पर स्थित है, मनाली से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कोठी, समुद्र तल से 2,500 मीटर की ऊँचाई पर है। यह सुन्दर गाँव बर्फ से ढके शानदार पहाड़ों और ग्लेशियरों और ब्यास नदी का शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है, यहाँ का रास्ता संकरे घाट से होकर गुजरता है। रोहतांग दर्रे की पैदल चढ़ाई करने वाले पर्यटकों के लिये कोठी शहर एक उत्तम स्थान है। कोठी के राजसी स्थानों के द्रश्य को कई बॉलीवुड फिल्मों में फिल्माया गया है, कई महान कवियों, लेखकों और चित्रकारों ने प्रकृति के इस खूबसूरत दृश्य अपनी कलम से सजोया है।

मनाली अभयारण्य घूमने की जानकारी – Manali Wildlife Sanctuary Kullu Manali Tourism In Hindi

वन्यजीव अभयारण्य मनाली की एक परषिद जगह है, जंगली पहाड़ी जानवरों का यह घर वन्यजीव अभयारण्य मनाली के दर्शनीय स्थलों में से एक है। यह अद्भुत अभयारण्य मुख्य शहर से लगभग दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, और 3,180 हेक्टेयर भूमि में फैला हुआ है। मनाली वन्यजीव अभयारण्य 1954 में स्थापित हुआ था, मनाली वन्यजीव अभयारण्य में हिमालयी काले भालू, कस्तूरी मृग, उड़ने वाली लोमड़ी, धारीदार लकड़बग्घा, हिमालयी तहर, हिरण, भारतीय कीलक जैसे जानवर शामिल हैं। हथेली, सीरम, हिमालयन पीले-गले वाले शहीद, और कश्मीर में उड़ने वाली गिलहरियाँ। । यहां आप लुप्तप्राय जानवरों जैसे तेंदुए, भूरे और सफ़ेद भालू भी देख सकते हैं। इस अद्भुत जगह की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय सर्दियों के दौरान है, जब परिवेश अधिक जीवंत और सुखद होता है।

रघुनाथ मंदिर मनाली – Raghunath Temple Kullu Manali Tourism In Hindi

कुल्लू को अक्सर “देवताओं की घाटी” के रूप में जाना जाता है क्योंकि इसमें कई मंदिर शामिल हैं, जो हिमाचल प्रदेश की समृद्ध संस्कृति को दर्शाते हैं। रघुनाथ मंदिर एक प्राचीन परषिद मंदिर है, यह समुद्र तल से 2056 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह प्रशिद मंदिर कुल्लू में मुख्य आकर्षणों में से एक है, और यह भगवान राम को समर्पित है। इस राजसी मंदिर को राजा जगत सिंह ने 1660 में बनवाया था। इस मंदिर में भगवान श्री राम जी मूर्ति विराजमान है, जिनके दिव्य दश्य बहुत ही मनमोहक है, यहाँ आकर यात्री सकून महसूस करते है। यहाँ शांत प्रक्रति के दिव्य द्रश्य पर्यटकों का मन मोह लेते है, रघुनाथ मंदिर में जाने का सबसे अच्छा समय पतझड़ के मौसम के दौरान है।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क -The Great Himalayan National Park Kullu Manali Tourism In Hindi

हिमालयन नेशनल पार्क, 754 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला एक विसाल नेशनल पार्क है, ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क भारत के सबसे अद्भुत राष्ट्रीय उद्यानों की सूची में सबसे नया है। 1984 में निर्मित, यह पार्क लगभग 5000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। पार्क के परिवेश देवदार और ओक के पेड़ों से हरा भरा रहता है। इस पार्क में पश्चिमी हिमालय की मूल निवासी बहुत महत्वपूर्ण वन्यजीव प्रजातियाँ हैं, जैसे कि मस्क फियर, ब्राउन बीयर, गोरल, थार, तेंदुआ, स्नो लेपर्ड, भारल, सेरो, मोनाल, कालिज, कोयलस, चीयर, ट्रोगोपान, स्नो कॉक, आदि। कुल्लू क्षेत्र की यात्रा का अनुभव करने के लिए ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क बहुत ही खुबसूरत जगह है । इस पार्क की यात्रा के लिए सबसे अच्छा मौसम गर्मियों हैं।

क्लब हाउस , मनाली , हिमाचल प्रदेश – Club House Kullu Manali Tourism In Hindi

क्लब हाउस मनाली मार्केट स्ट्रीट के पास शहर के केंद्र में स्थित है। इसमें सुंदर सुविधाएं हैं जिसमें एक स्केटिंग रिंक, एक ऑडिटोरियम, एक बिलियर्ड रूम, एक पुस्तकालय, एक बार और एक रेस्तरां शामिल हैं। बच्चों के लिए मनाली में सबसे लोकप्रिय स्थानों में से एक है, जो वीडियो गेम खेल सकते हैं, कार की सवारी का आनंद ले सकते हैं, आदि। यहाँ उपलब्ध हैं। मनाली क्लब हाउस HPTDC द्वारा चलाया जाता है और यहाँ सभी के लिए कुछ न कुछ छोटा है। यहां होने वाली अन्य गतिविधियों में कैरम, टेनिस और स्विमिंग पूल हैं।

बिजली महादेव मंदिर, कुल्लू – Bijli Mahadev Temple Kullu Manali Tourism In Hindi

महेश्वर महादेव मंदिर ब्यास नदी के तट पर स्थित है, जो कुल्लू से लगभग 15 किलोमीटर दूर है। बाजुरा नामक एक छोटे से गाँव में स्थित है, यह मंदिर एक पिरामिड शैली में बनाया गया है, भगवान शिव को समर्पित इस मंदीर में भगवान शिव और उनकी पत्नी देवी पार्वती विराजमा है, इस मंदिर में एक बड़ी शिव लिंगम भी है। इस राजसी मंदिर का इतिहास 9 वीं शताब्दी ईस्वी पूर्व का है, और यहमहेश्वर महादेव मंदिर जटिल पत्थर की नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है। उस मंदिर में अन्य देवताओं की मूर्तियों को भी देख सकता है, जैसे कि भगवान विष्णु, गणेश, दुर्गा, और लक्ष्मी की मुर्तिया इस मंदिर की सोभा बढ़ाते है, भगवान गणेश की मूर्ति एक विसाल मंदिर में है। यह विशाल मंदिर पिरामिड शैली में बनाया गया है।

सुल्तानपुर पैलेस, कुल्लू – Sultanpur Palace Kullu Manali Tourism In Hindi

सुल्तानपुर पैलेस कुल्लू में मुख्य पर्यटक आकर्षणों में से एक है, और इसमें विभिन्न विषयों पर आधारित अद्भुत सुंदर लघु चित्र हैं। इन चित्रों में कुल्लू और मनाली के स्थानीय लोगों की सरल ग्रामीण झलक दिखाई देती है, जिसमें वे मानव आकृतियाँ हैं। यह सुल्तानपुर पैलेस किसी राजसी महल से कम नहीं है, यह प्लेस भूकंप से क्षतिग्रस्त हो गया था, और बाद में अवशेषों के माध्यम से इसका पुनर्निर्माण किया गया था। सुल्तानपुर पैलेस कुल्लू घाटी के प्राचीन शासकों के लिए निवास स्थान है।

माँ शार्वरी मंदिर, कुल्लू Maa Sharvari Temple Kullu Manali Tourism In Hindi

माँ शार्वरी मंदिर का मनोरम स्थान इसे कुल्लू के दर्शनीय स्थलों में से एक है। यह मंदिर माँ शार्वरी देवी कुल्लू राजाओं की कुल देवी का है, जो देवी माँ दुर्गा का अवतार हैं, मंदिर के लुभावने दृश्य शांत और निर्मल पहाड़ों द्वारा संजोए गए हैं, जो सर्दियों के दौरान बिल्कुल अविश्वसनीय लगते हैं, जब पूरे क्षेत्र को बर्फ के सफ़ेद कंबल में ढंक जाता है। इस अनोखे मंदिर में जाने का सबसे अच्छा समय दशहरे के हिंदू त्योहार के दौरान होता है जब उत्सव अपने चरम पर होते हैं।

 

हम  उम्मीद करते हैं की आपको ये कुल्लू मनाली पर्यटन स्थल – Kullu Manali Tourism In Hindi जरूर पसंद आयी होगी।और आपके के परिवार को हमारी और भी   Happy New Year  आप सब नए साल में कामयाबी पाए और आप का स्वास्थ्य उतम बना रहे !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *