October 15, 2020
Ahmedabad tourist places in hindi अहमदाबाद के पर्यटक स्थल places to visit in ahmedabad hindi

Ahmedabad tourist places in hindi अहमदाबाद के पर्यटक स्थल places to visit in ahmedabad hindi

Ahmedabad tourist places in hindi,क्या आप जानते है अहमदाबाद को कर्णावती के नाम से भी जाना जाता था । फिर अहमदाबाद का नाम अहमदाबाद कैसे पडा और अहमदाबाद की स्थापना कब और किसने की, इतिहासकरो के अनुसार सन 1411 में कर्णावती नामक शहर पर सुल्तान अहमद शाह हमला कर कब्ज़ा कर कर लिया, और सुल्तान अहमद शाह ने अपने नाम पर ही इस शहर का नाम अहमदाबाद रखा । साबरमती नदी के किनारे बसा यह खुबसूरत शहर वर्तमान में व्यापार और वाणज्यिक केंद्र के रूप में बहुत अधिक विकसित है। अपने ऐतिहासिक और औद्योगिक पहचान के रूप में दर्शनीय इस शहर को गुजरात का ह्रदय कहा जाता है। अहमदाबाद पहले गुजरात की राजधानी भी हुआ करता था , पर्यटन की दृष्टि से अहमदाबाद दर्शनीय स्थल भरपूर है। यहां देश विदेश के पर्यटको का तांता लगा रहता है।

Ahmedabad tourist places in hindi अहमदाबाद के पर्यटक स्थल-अहमदाबाद में घुमने की जगह

Ahmedabad tourist places in hindi में घुमने की जगह बहुत सारी है, अहमदाबाद ऐतिहासिक और प्राचीन स्मारकों का  मुख्य केंद्र हैं, tourist places in ahmedabad जो शहर के मुख्य आकर्षण का केंद्र हैं। अहमदाबाद स्मारकों के वास्तुशिल्प डिजाइन हिंदू और इस्लामी शैलियों का मिश्रण दर्शाता है। अहमदाबाद, गुजरात के अधिकांश ऐतिहासिक स्मारकों की उत्पत्ति 15 वीं शताब्दी में वापस पाई जा सकती है। अहमदाबाद टूरिस्ट प्लेस और एतिहासिक स्मारकों है जो काफी लोकप्रिय है,

मोढेरा सूर्य मन्दिर गुजरात/Modhera Surya Mandir Gujarat

मोढेरा सूर्य मन्दिर गुजरातModhera Surya Mandir Gujarat
मोढेरा सूर्य मन्दिर गुजरातModhera Surya Mandir Gujarat

मोढेरा सूर्य मन्दिर भारत के राज्य गुजरात में मोढेरा गांव में स्थित है, मोढेरा सूर्य मंदिर महेसाणा से 25 किमी और अहमदाबाद से 106 किमी दूर पर स्थित है। सोलंकी वंश के राजा भीमदेव प्रथम ने इस मन्दिर का निर्माण सन् 1026 ई.किया गया था, इस समय में इस मन्दिर में पूजा नहीं की जाती है। इस वक्त मोढेरा सूर्य मन्दिर एक टूरिस्ट स्पॉट है, यह मंदिर ग्यारहवें सदी के बेहतरीन वास्तुकला में से एक है। यहाँ प्रत्येक वर्ष तीन दिन का नृत्य महोत्सव का आयोजन किया जाता है।

दादा हरीर वाव अहमदाबाद/Dada Harir Vav Ahmedabad

दादा हरीर वाव अहमदाबाद का एक प्राचीन कुंआ है। सन 1501 में महमूद बेगडा के शासनकाल के दौरान बनाया गया था ,इसकी बनावट जबरदस्‍त है। यह स्‍थल दादा हरि की कब्र के पीछे है। इस संरचना को देखकर लगता है इसका निर्माण कितना जटिल रहा होगा। यहां बनी पत्‍थरों पर बनी सीडिया पयर्टकों को अपनी ओर आकर्षि‍त करती हैं। दिन के उजाले में दादा हरीर वाव की सैर करने का आनंद ही कुछ और है ,

Shanku’s Water Park Ahmedabad!शंकु का वाटर पार्क अहमदाबाद

Ahmedabad tourist places in hindi शंकु का वाटर पार्क अहमदाबाद का (Shanku’s Water World Resor)tवर्ल्ड रिज़ॉर्ट पार्क है, अहमदाबाद शहर की गर्मीओ में सैर का लोगों के लिए एक लोकप्रिय जगह है। एक दिलचस्प और आकर्षक वाटर पार्क अहमदाबाद -पालनपुर रोड पर स्थित है और इसे व्हाइट वाटर लीजर लिमिटेड नाम की एक प्रसिद्ध कंपनी द्वारा डिजाइन किया गया है। यह फैमिली केशव हॉलिडे रिजॉर्ट है, शंकु का वाटर पार्क को श्री शंकरभाई चौधरी द्वारा बनाया गया था। लगभग 75 एकड़ भूमि के क्षेत्र में फैले पार्क में मनोरंजक सवारी शामिल हैं। हरे भरे वातावरण की पृष्ठभूमि भरपूर पार्क आकर्षण का एक प्रदान करता है। वाटर पार्क के रूप में भी लोकप्रिय है।

कांकरिया झील अहमदाबाद Kankariya lack ahamadabad

कांकरिया झील अहमदाबाद Kankariya lack ahamadabad
कांकरिया झील अहमदाबाद Kankariya lack ahamadabad

कांकरिया झील Kankariya lack ahamadabad दो किलोमीटर तक फैली हुई है। इस झील का निर्माण 1451 में सुल्तान कुतुबुद्दीन अहमद शाह द्वितीय ने करवाया था। झील के चारों ओर सीढ़ियां बनी हुई हैं, पानी की सतह में उतरने के लिए आधा दर्जन जगहां पर ढलान बनी हुई है। इन ढलानों को चौकोर कपोलों से ढक दिया गया है, हर एक कपोल 12 स्तंभों पर टिका हुआ है। झील के मध्य में कृत्रिम टापू बनाया गया है इस टापू का नाम नागिनवाड़ी रखा गया है। यहां चिड़ियाघर, प्राकृतिक इतिहास का संग्रहालय, बच्चो को खलने के लिए खिलौना रेल, व् बाल वाटिका, ओपन-एयर थियेटर, बैलून सफ़ारी, तीव्रगति की रेल की सवारी जैसी अनेक सुविधाएं उपलब्ध है। यह झील शहर के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में स्थित है तथा अहमदाबाद की शहरी आबादी के लिए आनंददायक पल बिताने के लिए काफी लोकप्रिय है। इसके चारों ओर पैदल चलने के व्यापक रास्ते बने हुए हैं।

शाही बाग अहमदाबाद!Shahi Bagh Ahmedabad

शाही बाग अहमदाबाद का एक प्राचीन बगीचा है । बगीचे में एक शाही महल और उनके आसपास की दीवार के साथ व्यापक उद्यान क्षेत्र शामिल हैं। शाही बाग को सन 1622 में शाहजहाँ ने बनाया था,जो उस समय गुजरात का मुगल शासक था इस महल ने 1978 तक राजभवन को गुजरात के राज्यपाल के आधिकारिक निवास स्थान पर रखा था। यह महल महान कवि रवींद्रनाथ टैगोर के बड़े भाई स्वर्गीय सत्येंद्रनाथ का घर था। सत्येन्द्रनाथ अहमदाबाद के तत्कालीन डिस्चार्ज जज और पहले भारतीय आईसीएस थे। ऐसा माना जाता है कि रवींद्रनाथ टैगोर की प्रसिद्ध कहानी ‘द हंग्री डॉन्स’ के पीछे प्रेरणादायक महलनुमा हवेली थी। महल की मुख्य संरचना 11 एकड़ के क्षेत्र में स्थापित है और उद्यान लगभग 52 एकड़ में फैला हुआ है। महल को अब सरदार पटेल स्मारक में बदल दिया गया है, जिसमें सरदार वल्लभ भाई पटेल के चित्र और चित्र हैं।

अक्षरधाम मंन्दिर अहमदाबाद!Akshardham Temple Ahmedabad

अक्षरधाम मंन्दिर अहमदाबाद!Akshardham Temple Ahmedabad
अक्षरधाम मंन्दिर अहमदाबाद!Akshardham Temple Ahmedabad

अक्षरधाम मंदिर गुजरात के प्रमुख सांस्कृतिक केंद्रों में से एक है। अक्षरधाम मंन्दिर अहमदाबाद के गांधीनगर इलाके में बना है। अक्षरधाम मंदिर की स्‍थापना 1992 में हुई थी। भगवान स्वामीनारायण को समर्पित इस मंन्दिर में सोने की करीब 7 फीट ऊंची मूर्ति रखी है। मंदिर की जटिल नक्काशीदार दीवारों पर गुलाबी पत्थर लगा है जो सूरज की रोशनी में चमकता रहता है। हरेभरे पेड़-पौधों से भरपूर मंन्दिर में बड़ी संख्‍या में लोग दर्शन के अलावा घूमने भी आते हैं। यहां पर उद्यानों में बच्‍चों को खेलने की व्‍यवस्‍था है। मंदिर में सुंदर झरने और झीलें पयर्टकों को अपनी ओर आकर्षि‍त करते हैं। अक्षरधाम मंदिर की खासियत यह है की यहां एक ही छत के नीचे कला, वास्तुकला, शिक्षा, अनुसंधान और प्रदर्शनियों के विभिन्न पहलुओं को एक साथ देखा जा सकता है।

नल सरोवर पक्षी अभयारण्य

अहमदाबाद से 70 किमी की दूरी पर स्थित, नल सरोवर पक्षी अभयारण्य मूल रूप से एक प्राकृतिक झील है जो एक उत्कृष्ट भ्रमण बनाती है। नल सरोवर 116 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फेला हुआ हैं, नल सरोवर सेलानियो और पक्षियों के लिए खूबसूरत जगह है , यहाँ साइबेरिया पक्षी पलायन भ्रमण करने आते हैं, नल सरोवर पक्षी अभयारण्य शहर की हलचल से दूर शांति परधान करता है।

भद्र का किला

अहमदाबाद में स्मारकों की बात आती है भद्रा किला का जिक्र सबसे पहले होता है, भद्र का किला वास्तव में एक उल्लेख के योग्य प्राचीन स्मारक है। सन 1411 में मराठों के शासनकाल के दौरान भद्र का किला निर्माण किया गया था,अहमदाबाद में भद्रा का किला एक शाही किला है जो अहमदाबाद के दर्शनीय स्थलों की यात्रा में शीर्ष स्थान पर है।

झुला मिनार

अहमदाबाद अपने लहराते मीनारों के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है, जिन्हें आमतौर पर झुला मिनर के नाम से जाना जाता है शानदार शिल्प कौशल का एक उत्कृष्ट उदाहरण है, झुल्ता मीनार सिद्दी बशीर मस्जिद का हिस्सा है। मस्जिद का निर्माण इस तरह से किया गया है कि, यदि आप ऊपरी चाप पर थोड़ी ताकत लगाते हैं, तो मिनर बोलने लग जाता है। बच्चों के लिए, अहमदाबाद में झुल्ता मीनार, भारत एक मजेदार जगह है।

किशोर दरवाजा

किशोर दरवाजा एक वास्तुकला का चमत्कार है, जिसकी खूबसूरती निश्चित रूप से आपको अव्यवस्था छोड़ने जा रही है। खूबसूरत धनुषाकार गेट्स से युक्त, तीन दरवाजा, अहमदाबाद शहर का सबसे पुराना प्रवेश द्वार है। यह सुलतान अहमद शाह द्वारा वर्ष 141 ए.डी. में स्थापित किया गया था, जिन्होंने अहमदाबाद शहर की स्थापना की थी