November 18, 2019
नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी-nenital

नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी-nenital

नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी-nenital गर्मियों में लोग छुट्टियों का आनंद लेने के लिए घूमने जाते है। और सब लोगो को कोई ठंडी और हरियाली वाली जगह ही पसंद आती है। इसलिए वे वे किसी हिलस्टेशन जैसी जगह पर जाते है। और नैनीताल भी एक सुंदर हिलस्टेशन है। जहां बहुत सारे लोग घूमने आते है। ये जगह प्राकृतिक दृष्टि से भी बहुत सुन्दर और अच्छी जगह है। नैनीताल में इतना अच्छा महसूस होता है।

यहां का हरा भरा मैदान मन को बहुत शांति प्रदान करता है। यहां का प्राकृतिक सौंदर्य देखकर मन बहुत खुशी व चंचलता महसूस करता है। ये जगह वैसे सब जेनरेशन के लोगो की पसंदीदा मानी जाती है। ये उत्तराखंड राज्य  का बहुत ही सुन्दर पर्यटक स्थल है ।जहा पर लोग लाखो की संख्या में प्रतिमाह घूमने आते है।

ये करीब 2000 मीटर  समुद्रतल से ऊंचा है। नैनीताल शहर सबसे ज्यादा अपनी हरीभरी वादियों, खूबसूरत पहाडि़यों, प्राकृतिक झरनों और तालों के लिए आदि के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। इस जगह पाए जाने वाले  सागौन और देवदार के ऊंचेऊंचे वृक्षों के झुरमुट और नैनी झील बहुत सुंदर नज़ारे और सौंदर्य सब लोगो, पर्यटकों, निवासियों आदि को यहां की सुंदरता भाती है। न्यू कपल्स को भी अपने हनीमून के लिए ये जगह बहुत प्यार और अपनी और आकर्षित करती है।

नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी-nenital
नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी-nenital
nenital

नैनीताल के अतीत की कुछ बाते 

सबसे पहले इस जगह की खोज करने वाले इंसान का नाम पी बैरन हैं। जो कि एक अंग्रेज आदमी है। जिन्होंने वर्ष 1841 में पहली बार इस जगह की खोज की थी। इस जगह की सुंदरता को देखकर वह बहुत प्रभावित हुआ कि उसने पूरा जीवन यहां जीने का फैसला कर लिया और उसने नैनीताल में ही अपना घर बनवा लिया। और उसने अपने घर को पीलग्राम कोटेज रखा। अंग्रेजो के शासन काल में इसे उत्तरप्रदेश की राजधानी बनाया गया था । पहले नैनीताल उत्तरप्रदेश का ही हिस्सा था। लेकिन बाद में नवम्बर 2000 में ये अलग हो गए ।
नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी-nenital

नैनीताल में बहुत सारे दर्शनीय स्थल हैं जिन में प्रमुख हैं :

केव गार्डन

केव गार्डन जैसा कि नाम से ही पता चलता है। की इस जगह बहुत सारी गुफाएं मौजूद है। ये जगह गुफाओं के लिए जानी जाती है। क्योंकि यह बहुत सी चोटी व बड़ी गुफाएं पाई जाती है। यह गार्डन सब पर्यटकों को आकर्षित करता है। ये गार्डन देखने के लिए बड़ों व बच्चो के लिए अलग – अलग टिकट के रुपए निर्धारित किए गए है।

नैनी पीक

नैनी पीक यहां की सब से ऊंची पहाड़ी है, ये मुख्य शहर से 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।इसकी ऊंचाई 2,610 मीटर है। यह हिमालय की चोटी पर बर्फ से ढके हुए सुंदर शहर का नज़ारा यह देख सकते है। यह जाने के लिए  बस और टैक्सी के अलावा यहां घोड़े की सवारी के द्वारा भी यहा जाया जाता है। जो कि सबको बहुत अच्छी लगती है।

स्नो व्यू

उत्तरी हिमालय की बर्फ से ढकी चोटिया 2,270 मीटर ऊंचाई पर स्थित है। इसलिए इसे स्नो व्यू कहते है। क्योंकि ये जगह बर्फ से भरी पड़ी है ये नज़ारा सब लोगो को आनंददायक लगती है। यहां से हरेभरे मैदान क्षेत्र,  वनों से ढकी पहाडि़यों और घाटियों के दृश्य बहुत ही प्यारे लगते हैं। यहां आने जाने के लिए रोप वे से, घोड़े से या फिर पैदल भी जाया जा सकता है।

नैनी झील

नैनी झील विश्व प्रसिद्ध झील है।  इस शहर के बीचोंबीच स्थित है। नैनी झील पर्यटकों को आकर्षित करने में मुख्य जगह है। इस झील के ऊपरी छोर को मल्लीताल के नाम से जाना जाता है। नोका विहान की सुविधा भी पाई जाती है। जिसका सभी लोग विशेष आनंद लेते है। यहां टूसीटर, फोरसीटर बोट्स के अलावा कुछ निजी बोट्स भी चलती हैं। इन सभी सुविधाओं का लाभ उठाया जा सकता है। इनके लिए अलग अलग किराया देना पड़ता है।

टिफिन टौप

टिफिन टौप पहाड़ी को ‘डोरोथी सीट’ के नाम से भी जाना जाता है। इसे ब्रिटिश आर्मी औफिसर ने अपनी पत्नी की यादो को जिंदा रखने के लिए इसका निर्वाण करवाया था। क्योंकि वे अपनी पत्नी से बहुत प्रेम करते थे। यहां से सुंदर पर्वत सश्रंखलाए और हरे भरे शहर की वादियों को देखा जा सकता है। जो हमे अपने और आकर्षित करते है। इसे टिफिन टौप इसलिए कहते है। क्योंकि इसकी आकृति टिफिन के समान है।

लैंड्स एंड

लैंड्स एंड मुख्य शहर से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जो की 3,120 मीटर समृद्रतल  से  ऊंचाई पर  स्थित है। खुरपा ताल का विहंगम दृश्य भी लैंड एंड  दिखाई देता है। जो की बहुत सुंदर नज़ारा हैं। दूर से उस ताल का आकार जानवर के समान नजर आता है।

लवर्स पौइंट

लवर्स पॉइंट जो कि टिफिन टौप से थोड़ा पहले स्थित है। यहां बहुत कपल्स घूमने आते है। इसलिए इसे लवर्स पौइंट के नाम से जाना जाता है। यह जगह युगलों और नवदंपतियों को आकर्षित करता है। यहां चारों ओर धुएं की तरह उड़ते बादलों की खूबसूरती पर्यटकों को अपनी ओर ओर खींचती है।

भीमताल

भीमताल भी पर्यटकों को आकर्षित करने वाला केंद्र है। ये क्षेत्र नैनीताल से 22 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। माना जाता है कि पांडवों के भाई भीम की याद में इस ताल का नाम भीमताल रखा गया। जो पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। यहां  इस झील में बोटिंग के मज़े भी हम ले सकते है।

नौकुचियाताल

नौकुचियताल झील में नो कोने है। ये झील पूरी तरह से शांत और प्रदूषणरहित हैं। ये झील 5 किलोमीटर दूर है भीमताल से इसमें वोटिंग की भी सुविधा पाई जाती है। वोटिंग का यहां विशेष इंतजाम किया गया है। जो पर्यटकों को बहुत अच्छी लगती है।

ये झील 192 फुट गहरी हैं। इसकी परिक्रमा करने में करीब डेढ़ घंटे का समय लगता है। इस झील में बहुत सारी मछलियां भी देखने को मिलती है। जिन्हे पकड़ना मना है। यहां पर सभी तरह की बोट मिलती है।

नैनीताल घूमने कब जाएं

यहां जाने के लिए गर्मियों का मौसम सबसे अच्छा है। क्योंकि इस समय ये स्थान ठंडा रहता है। और पर्यटकों को गर्मी से राहत मिलती है। पर्यटक सालभर यहां आते है। लेकिन गर्मियों में ज्यादा आते है। यहां उन्हें आनंददायक मौसम मिलता है। और यह का मौसम हर समय बदलता रहता है।

कैसे जाएं

यहां हेतु साधन सुविधाएं  भी मिलती है। रेलमार्ग इसके लिए ज्यादा उपयोगी है। रेलमार्ग का सबसे पास में काठगोदाम स्टेशन पड़ता है।  जो 35 किलोमीटर नैनीताल से दूर है। पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से रोजाना रात 10.30 पर रानीखेत ऐक्सप्रैस जाती है।

सड़क मार्ग : दूसरा मार्ग सड़क मार्ग पर से जाता है। नैनीताल के लिए दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश आदि राज्यो से बस की सुविधा पर्यटकों को मिल जाती है। यहां के लिए पैकेजिंग टूर की भी व्यवस्था है।

कहां ठहरें : यहां ठहरने के लिए भी उचित होटल या  गेस्ट हाउस आदि की व्यवस्था की गई है। और इनमें खाने पीने की भी अच्छी व्यवस्था होती है। हम अपनी इच्छानुसार होटल ले सकते है।

नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी-nenital

अन्य आकर्षण

इन सब के अलग यहां अन्य देखने लायक स्थान भी है। जैसे नैनीताल में एक छोटा सा चिडि़याघर भी देखने को मिलता हैं। जहां सब प्रजाति के पहाड़ी जीव जंतु देखने को मिलते है। यहां का नज़ारा बहुत ही अच्छा है। ट्रैकिंग का मजा लेने के लिए बेताल घाटी ट्रैक, विनायक ट्रैक, कैंची ट्रैक किलबरी ट्रैक, कुंजरवारक ट्रैक और स्नो व्यू ट्रैक स्थल प्रसिद्ध है। यहां लोगो व पर्यटकों की सुविधा के लिए  ट्रैकिंग के सामान व जानकारी के लिए नैनीताल माउंटेनियरिंग क्लब व कुमाऊं मंडल विकास निगम आदि सहायता केंद्र बनाए गए है।

read it…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *